धर्म तथा धार्मिक मनुष्य के दस लक्षण !!

नमों नारायणाय, मनुस्मृति में धर्म के दस लक्षणों का वर्णन है, जिन्हे आचरण में उतारने वाला व्यक्ति ही धार्मिक कहलाने

Read more

अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम् ।।

जय श्रीमन्नारायण, ।। अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम् ।। आदिलक्ष्मी – सुमनसवन्दित सुन्दरि माधवि, चन्द्र सहोदरि हेममये ।। मुनिगणमण्डित मोक्षप्रदायिनि, मञ्जुळभाषिणि वेदनुते ।।

Read more

नारायण पाद पंकज स्तोत्रम् ।।

जय श्रीमन्नारायण, नमामि नारायणपादपङ्कजं करोमि नारायणपूजनं सदा । वदामि नारायणनाम निर्मलं स्मरामि नारायणतत्वमव्ययम् ।। १ ।। श्रीनाथ नारायण वासुदेव श्रीकृष्ण

Read more

श्री कनकधारा स्तोत्रम् – अर्थ सहितम् ।।

एक बार भारत में बीहड़ आकाल पड़ने पर परमादरणीय आदिगुरू शंकराचार्य जी ने इस स्तोत्र का परायण करके सोने के

Read more

ज्ञान और अज्ञान में अन्तर ।।

जय श्रीमन्नारायण, पूतना = पूत का अर्थ है = पवित्र और ना का अर्थ है = नहीं ।। पूत ना

Read more

श्रीविष्णुसहस्रनामस्तोत्रम् ।।

श्रीविष्णुसहस्रनामस्तोत्रम् ।। अस्य श्रीविष्णोर्दिव्यसहस्रनामस्तोत्रस्य भगवान् वेदव्यास ऋषि:, अनुष्टुप् छन्द:, श्रीकृष्ण: परमात्मा देवता, अमृतां-शूद्भवो भानुरिति बीजम्, देवकीनन्दन: स्रष्टेति शक्ति:, त्रिसामासामग: सामेति

Read more

अध्यात्मरामायणमाहात्म्यम् ब्रह्माण्डपुराणे।।

रामं विश्वमयं वन्दे रामं वन्दे रघूद्वहम् । रामं विप्रवरं वन्दे रामं श्यामाग्रजं भजे ॥ यस्य वागंशुतश्च्युतं रम्यं रामायणामृतम् । शैलजासेवितं

Read more

चतुर्विंशतिनाम प्रतिपादक चूर्णिका

चतुर्विंशतिनाम प्रतिपादक चूर्णिका ॥ ॥ श्री भद्राचल रामदास कृत चतुर्विंशतिनाम प्रतिपादक चूर्णिका ॥ श्रीमदखिलाण्ड कोटि ब्रह्माण्ड भाण्ड दाण्डोपदण्ड मण्डल सान्दोत्दीपित

Read more

भरताग्रज श्रीराम अष्टकम् ।।

भरताग्रज श्रीराम अष्टकम् ।। हे जानकीश वरसायकचापधारिन् हे विश्वनाथ रघुनायक देव-देव। हे राजराज जनपालक धर्मपाल त्रयस्व नाथ भरताग्रज दीनबन्धो॥१॥ हे

Read more

अथ श्रीरघुनाथ अष्टकम् ।।

अथ श्रीरघुनाथ अष्टकम् ।। शुनासीराधीशैरवनितलज्ञप्तीडितगुणं प्रकृत्याऽजं जातं तपनकुलचण्डांशुमपरम् । सिते वृद्धिं ताराधिपतिमिव यन्तं निजगृहे ससीतं सानन्दं प्रणत रघुनाथं सुरनुतम् ॥

Read more