About Classes.

0
875
About Balaji Jyotish Classes
About Balaji Jyotish Classes

बालाजी वेद विद्यालय, सिलवासा में आपका स्वागत है।। About Balaji Jyotish Classes.

बालाजी वेद विद्यालय, वैदिक ऋषियों के द्वारा निर्मित, वैदिक सनातन धर्म के सभी सूत्रों को जीवित एवं प्रसारित करने के प्रयत्न में, स्वामी श्री धनञ्जय जी महाराज द्वारा सिलवासा निर्मित एक स्वतन्त्र व्यवस्था है ।।

हमारे पूर्वज वैदिक ऋषियों द्वारा प्रदत्त इस वैदिक सनातन धर्म को अगर हम जीवित एवं संचालित रख पाए तो ये हमारे लिए गर्व का विषय होगा ।।


मित्रों, हमारे वेद सम्पूर्ण रूप से केवल विज्ञान ही हैं । इसीलिए, वैदिक विज्ञान को अपने ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाना है और इस पुनीत कार्य में आपका सहयोग जरुरी एवं अपेक्षित है ।।


बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय में बहुत से आचार्य बच्चों को वेद एवं ज्योतिष की शिक्षा देने के लिए स्वेक्षा से हमारे यहाँ आये हैं । हम सभी लोग मिलकर वैदिक ऋषियों द्वारा प्रदत्त हमारी इस विद्या को प्रसारित करने के लिए संकल्पित हैं ।।


आप सभी से विनम्र निवेदन है, कि अगर आपको किसी भी तरह के कर्मकाण्ड हेतु योग्य एवं संख्या में ब्राह्मण चाहिएं, तो आप हमें अवश्य संपर्क करें ।।


वेद अथवा ज्योतिष की शिक्षा प्राप्त करने हेतु आप इस पते पर संपर्क करें – गायत्री मन्दिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।


संपर्क सूत्र:- +91- 8690522111

E-Mail:: balajivedvidyalaya@gmail.com

आप सभी के नित्य कल्याण के आकांक्षी –


बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय – समस्त आचार्य ।।


।। नारायण नारायण ।।

आप सभी अपने मित्रों को फेसबुक पेज को लाइक करने और संत्संग से उनके विचारों को धर्म के प्रति श्रद्धावान बनाने का प्रयत्न अवश्य करें।।

नारायण सभी का नित्य कल्याण करें । सभी सदा खुश एवं प्रशन्न रहें ।।

जयतु संस्कृतम् जयतु भारतम्।।

।। नमों नारायण ।।

Previous articleएक परिचय स्वामी जी महाराज।।
Next articleShubhkamnayen
भागवत प्रवक्ता- स्वामी धनञ्जय जी महाराज "श्रीवैष्णव" परम्परा को परम्परागत और निःस्वार्थ भाव से निरन्तर विस्तारित करने में लगे हैं। श्रीवेंकटेश स्वामी मन्दिर, दादरा एवं नगर हवेली (यूनियन टेरेटरी) सिलवासा में स्थायी रूप से रहते हैं। वैष्णव धर्म के विस्तारार्थ "स्वामी धनञ्जय प्रपन्न रामानुज वैष्णव दास" के श्रीमुख से श्रीमद्भागवत जी की कथा का श्रवण करने हेतु संपर्क कर सकते हैं।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here