About Sansthanam

0
948
About Sansthanam
About Sansthanam

श्री त्रिदंडी देव सेवाश्रम संस्थान, सिलवासा में आपका हार्दिक अभिनन्दन है।। About Sansthanam.

श्री त्रिदंडी देव सेवाश्रम संस्थान, सिलवासा. वैदिक ऋषियों के द्वारा निर्मित, वैदिक सनातन धर्म के सभी सूत्रों को, सही अर्थों में जन-जन को, समझाने के प्रयत्न में, जगद्वन्द्य, जगदाचार्य, प्रातः स्मरणीय, पूज्यपाद श्रीमद् विष्वक्सेनाचार्य श्री श्री त्रिदंडी स्वामी जी महाराज के जीवन के आदर्शों को निमित बनाकर, परम पूज्य, प्रातः स्मरणीय पूज्यपाद वैष्णवाधिराज श्री श्री लक्ष्मीप्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज के परम शिष्य स्वामी धनञ्जय महाराज के नेतृत्व में संत सेवा एवं बड़े स्वामी जी के आदर्शों तथा धर्म के विस्तार हेतु निर्मित एक संस्था है । जिसका सञ्चालन लोक कल्याण मिशन चैरिटेबल ट्रस्ट सिलवासा के सभी मेम्बरों की स्वेच्छा एवं सहयोग से होता है ।।

स्वयं माता महालक्ष्मी द्वारा स्थापित  “श्री वैष्णव”  संप्रदाय, जो परमादरणीय श्री श्री रामानुज स्वामी जी के द्वारा विस्तृत किया गया है ।यह श्री वैष्णव संप्रदाय, जो भक्ति की अद्भुत विधा को परिलक्षित करता है, ऐसे इस संप्रदाय तथा आदरणीय रामानुज स्वामी के सूत्रों को उत्तर भारत के जन-जन तक पहुँचाने के प्रयत्न में पूज्यपाद श्रीमद् विष्वक्सेनाचार्य श्री श्री त्रिदंडी स्वामी जी महाराज के शिष्यों की संख्या इतनी विस्तृत हो गयी, की आज जहाँ-जहाँ उनके शिष्य वैष्णव जन निवास करते हैं, वहां-वहां धर्म के विस्तारार्थ, निस्वार्थ भाव से इस संस्थान (श्री त्रिदंडी देव सेवाश्रम संस्थान) को विस्तृत बनाकर धर्म प्रचार में लगे हुए है ।।

इसी वैष्णव परम्परा को परम्परागत और निःस्वार्थ भाव से दादरा नगर हवेली (यूनियन टेरेटरी) सिलवासा में स्वामी धनञ्जय प्रपन्न रामानुज वैष्णव दास के द्वारा निर्वहन करते हुए, इन्हीं के नेतृत्व में “श्री त्रिदंडी देव सेवाश्रम संस्थान, सिलवासा” की संस्थापना की गयी है ।।

वैदिक सनातन धर्म के सभी पहलू को ध्यान में रखते हुए, एक विश्व स्तरीय वैष्णवाश्रम के निर्माण की प्रक्रिया इस दास द्वारा आरम्भ की गयी है, जहाँ संत, ब्राह्मण एवं गौ की सेवा, संस्कृति एवं सद्शिक्षा का प्रसार जैसे सत्कर्मों को ध्यान में रखकर किया जा रहा है ।।

अत: आप भी इस महान कार्य में सहभागी बनकर, माता महालक्ष्मी एवं भगवत्स्वरूप पूज्यपाद श्री श्री लक्ष्मीप्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज के कृपापात्र बनें ।।

श्री त्रिदंडी देव सेवाश्रम संस्थान, सिलवासा ।। (श्री वेंकटेश देवस्थानम)

आवेदक एवं संचालक – “श्री वैष्णवों” का सेवक – स्वामी धनञ्जय प्रपन्न रामानुज वैष्णव दास ।।

(लोक कल्याण मिशन चेरिटेबल ट्रस्ट {रजिस्टर्ड नंबर – 1333.})

आप सभी अपने मित्रों को फेसबुक पेज को लाइक करने और संत्संग से उनके विचारों को धर्म के प्रति श्रद्धावान बनाने का प्रयत्न अवश्य करें।।

नारायण सभी का नित्य कल्याण करें । सभी सदा खुश एवं प्रशन्न रहें ।।

जयतु संस्कृतम् जयतु भारतम्।।

।। नमों नारायण ।।

Previous articleAbout Us
Next articleएक परिचय स्वामी जी महाराज।।
भागवत प्रवक्ता- स्वामी धनञ्जय जी महाराज "श्रीवैष्णव" परम्परा को परम्परागत और निःस्वार्थ भाव से निरन्तर विस्तारित करने में लगे हैं। श्रीवेंकटेश स्वामी मन्दिर, दादरा एवं नगर हवेली (यूनियन टेरेटरी) सिलवासा में स्थायी रूप से रहते हैं। वैष्णव धर्म के विस्तारार्थ "स्वामी धनञ्जय प्रपन्न रामानुज वैष्णव दास" के श्रीमुख से श्रीमद्भागवत जी की कथा का श्रवण करने हेतु संपर्क कर सकते हैं।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here