श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अथ चतुर्दशोऽध्यायः- गुणत्रयविभागयोग, ज्ञान की महिमा और प्रकृति-पुरुष से जगत्‌ की उत्पत्ति. Sansthanam.

श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अथ चतुर्दशोऽध्यायः- गुणत्रयविभागयोग, सत्‌, रज, तम- तीनों गुणों का विषय. Sansthanam.

श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अथ चतुर्दशोऽध्यायः- गुणत्रयविभागयोग, भगवत्प्राप्ति का उपाय और गुणातीत पुरुष के लक्षण. Sansthanam.