श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अथ द्वादशोऽध्यायः- भक्तियोग. साकार और निराकार के उपासकों की उत्तमता का निर्णय और भगवत्प्राप्ति के उपाय का विषय. Sansthanam.

श्रीमद्‍भगवद्‍गीता – अथ द्वादशोऽध्यायः- भक्तियोग. भगवत्‌-प्राप्त पुरुषों के लक्षण. Sansthanam.