सर्वार्थसाधनाभिधं गङ्गा कवचम्।। Ganga Kavacham.

इस सर्वार्थ= अर्थात = हर प्रकार के अर्थ की सिद्धि, साधना भिधं अर्थात हर प्रकार के साधनाओं को सिद्ध करनेवाली गङ्गा कवच को जो कोई भी पुण्यात्मा धारण करता है। वह हर प्रकार के ऐश्वर्य से युक्त होकर त्रैलोक्य विजयी बन जाता है। संतान सुख की कामना पूर्ण हो जाती है बल्कि शत पुत्रवती हो जाती है। इतना ही नहीं उसे ब्रह्मास्त्र आदि प्रभावी से प्रभावी शस्त्र भी पीड़ा नहीं पहुंचा सकते।। यथा:- कवचं परमं पुण्यं सोपि पुण्यवतां वरः। सर्वैश्वर्य्ययुतो भूत्वा त्रैलोक्यविजयी भवेत्॥ बहुपुत्रवती भूत्वा वन्ध्यापि लभते सुखम्। ब्रह्मास्त्रादीनि शस्त्राणि नैव कृत्तन्ति ताडितम्। गोपनीयं गोपनीयं गोपनीयं प्रयत्नतः॥

शिव उवाच:-

शृणु देवि प्रवक्ष्यामि सहस्येऽपि रहस्यकम्।
गङ्गायाः कवचं दिव्यं गोपनीयं त्वया सदा॥१॥

न कस्यापि प्रवक्तव्यं वक्तव्यं स्वात्मिकाय तत्।
न दर्शयन्ति सर्वागं विना भर्त्तुर्यथास्त्रियः॥२॥

तस्मात्त्वया न वक्तव्यं कवचं लोकसुन्दरि।
गङ्गायाः कवचस्याऽस्य वेदव्यास ऋषिः स्मृतः॥३॥

छन्दोऽतिजगती प्रोक्तं देवता सुरसरित्स्मृता।
धर्मार्थकाममोक्षेषु विनियोगः प्रकीर्त्तितः॥४॥

प्रणवो मे शिरः पातु नमः पातु ललाटकम्।
भगवती मे दृशो पातु कर्णौ ह्यम्बे ततोऽवतु॥५॥

अम्बालिके महामाली हिलि नासापुटद्वयम्।
कपौलौ मे सदा पातु चैह्येहि भगवत्यऽथ॥६॥

मुखं मे सततं रक्षेद् द्रवरूपा शुचिप्रभा।
अशेषतीर्थालवाले हनुमेव सदावतु॥७॥

जिह्वामूले च जिह्वाग्रे ह्रीं श्रीं बीजे सदावताम्।
शिवजटाधिरूढे च गङ्गे चोष्ठद्वयेऽवतु॥८॥

दन्न्तपङ्क्तौ च कण्ठे च पातु गङ्गा विशेषतः।
स्कन्धौ मे ॐ नमः पातु शिवायै करयोर्मम॥९॥

नारायण्यै च पार्श्वौ मे पायात्पापहरा सदा।
स्वान्ते दशहरायै मे गङ्गायै चोदरेऽवतु॥१०॥

स्तनौ स्वाहा सदा पातु देवाभिभवतोषिता।
नमो भगवति पातु कुक्षी मे सर्वदा सुखम्॥११॥

ऐं बीजं मध्यदेशे च बीजविद्या सदाऽवतु।
हिलि पुष्टं सदा पातु पातु नाभिं हिलिर्मम॥१२॥

मिलिमिलि पदद्वन्द्वं कटिं च सक्थिनी द्वयम्।
गङ्गे मां पावयेत्यव्याद् गुह्ये जानुद्वये मम॥१३॥

जङ्घे स्वाहा सदा पातु मिलि नेत्राक्षरी सदा।
सप्तार्ण सहिता विद्या पादौ पातु नवाक्षरी॥१४॥

हिलि हिलिमिलिमिलिनी गङ्गेदेवि नमो भृशम्।
मूर्द्धादिपादपर्यन्तं पातु पञ्चदशाक्षरी॥१५॥

तारमायारमा बीजं प्राच्यां रक्षतु मे सदा।
आग्नेय्यां सा भगवती पातु मां चक्रसंस्थिता॥१६॥

दक्षिणे गाङ्गदयिता नैरृत्यां च मे पूर्ववत्।
प्रतीच्यामस्त्रतो रक्षेद्रिपुभीरनिकृन्तनी॥१७॥

वामिनी पातु वायव्यां माया रक्षत् चोत्तरे।
ईशान्यां कमला पातु कामबीजं सदावतु॥१८॥

अधस्तात्प्रणवो रक्षेत्सर्वत्र सर्वमन्त्रराट्।
मणिकर्णिमृगीब्रह्मा हृदयं ध्रुवसंयुता॥१९॥

वियमिन्दुपकः पूर्वमन्त्रश्रीमणिकर्णिका।
सर्वत्र मे सदा पातु बाह्याभ्यन्तरभेदतः॥२०॥

इति ते कवचं देव्याः सारात् सारतरं परम्।
सर्वार्थसाधनं नाम कवचं परमाद्भुतम्॥२१॥

अस्यापि पठनात्सद्यः कुबेरोऽपि धनेश्वरः।
इन्द्रः सकलदेवेशो धारणात् पठनाद्यतः॥२२॥

सर्वसिद्धीश्वराः सन्तः सर्वैश्वर्य्यमवाप्नुयुः।
पुष्पाञ्जल्यष्टकं दत्वा मूलेनैवोचदापयेत्॥२३॥

संवत्सरकृतायास्तु पूजायाः फलमाप्नुयात्।
प्रीतिमन्योन्यतः कृत्वा कमला निश्चला गृहे॥२४॥

वाणी च निवसेद्वक्त्रे सत्यं सत्यं न संशयः।
यो धारयति पुण्यात्मा सर्वार्थसाधनाभिधम्॥२५॥

कवचं परमं पुण्यं सोपि पुण्यवतां वरः।
सर्वैश्वर्य्ययुतो भूत्वा त्रैलोक्यविजयी भवेत्॥२६॥

बहुपुत्रवती भूत्वा वन्ध्यापि लभते सुखम्।
ब्रह्मास्त्रादीनि शस्त्राणि नैव कृत्तन्ति ताडितम्।
गोपनीयं गोपनीयं गोपनीयं प्रयत्नतः॥२७॥

।। इति श्रीरुद्रयामले पार्वतीश्वरसंवादे सर्वार्थसाधनाभिधं कवचं संपूर्णम् ।।

आप सभी अपने मित्रों को फेसबुक पेज को लाइक करने और संत्संग से उनके विचारों को धर्म के प्रति श्रद्धावान बनाने का प्रयत्न अवश्य करें।।

नारायण सभी का नित्य कल्याण करें । सभी सदा खुश एवं प्रशन्न रहें ।।

जयतु संस्कृतम् जयतु भारतम्।।

।। नमों नारायण ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *