LATEST ARTICLES

कर्म और पाखण्ड में क्या भेद है।।

कर्म और पाखण्ड में क्या भेद है।। Karm Aur Pakhand Me Bhed. जय श्रीमन्नारायण, न मां कर्माणि लिम्पन्ति न मे कर्मफले स्पृहा। इति मां योऽभिजानाति कर्मभिर्न स...

भगवान नारायण की स्तुति एवं दस अवतार।।

भगवान नारायण की स्तुति एवं दस अवतार।। Bhagwan Vishnu Stutiyan. यं ब्रह्मा वरुणेन्द्ररुद्रमरुत: स्तुन्वन्ति दिव्यै: स्तवै- र्वेदै: साङ्गपदक्रमोपनिषदैर्गायन्ति यं सामगा:। ध्यानावस्थिततद्गतेन मनसा पश्यन्ति यं योगिनो- यस्यान्तं न विदु:...

Most Popular

सभी की नज़रों में अच्छा कैसे बनें रहें।।

सभी की नज़रों में अच्छा कैसे बनें रहें।। SAbki Najaro Me Achchhe Bane. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, एक बार कक्षा दस की हिंदी शिक्षिका अपने छात्र को...

जानते हुए भूलकर भी अधर्म ना करें।।

जानते हुए भूलकर भी अधर्म ना करें।। Dharm Kare Adharm Nahi. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, एक बार की बात है, एक जंगल की राह से एक जौहरी...

देवालय-निर्माण से प्राप्त होने वाले फल।।

देवालय-निर्माण से प्राप्त होने वाले फल।। Mandir Nirman Ka Fal. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, भगवान् लक्ष्मीनारायण अथवा वासुदेव आदि विभिन्न स्वरूपों के निमित्त मंदिर का निर्माण कराने...

मत्स्य अवतार का रहस्य।।

मत्स्य अवतार का रहस्य।। Matsya Avatar Ka Rahasya. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, एक बार एक बहुत बड़े दैत्य ने वेदों को चुरा लिया। उस दैत्य का नाम...
error: Content is protected !!