ऐसे में लोगों की प्रगति रुक जाती है।।

0
483
Pragati Aise Rukati Hai
Pragati Aise Rukati Hai

ऐसे में लोगों की प्रगति रुक जाती है।। Aapki Pragati Aise Rukati Hai.

जय श्रीमन्नारायण,

मित्रों, जब आप अपने जीवन में उबाऊ महशूस करने लगते हैं। भले ही वह नौकरी बदलने की बात हो, नई कला या कौशल सीखने का मौका हो या फिर घर या शहर बदलने का अवसर।।

जब भी आपको लगे कि अब आपको जंग सा लग रहा है तो बदलाव के लिए कोशिश करें।।


ऐसे में लोग पाते हैं कि वे एक ही जगह टिक से गए हैं और उन्होंने लंबे समय से कुछ नया नहीं सीखा । लेकिन फिर भी वे उसी जगह बने रहते हैं ।।

ऐसे में धीरे-धीरे जीवन में नएपन का उत्साह खत्म सा होने लगता है ।।

अगर आपको भी ऐसा लगता है कि आप वर्षों से एक ही जगह हैं और प्रगति रुक गई है तो आगे निकलने के बारे में आपको सोचना चाहिए ।।


अगर आप एक ही ढर्रे पर चल रहे तो जीवन ऊबाऊ होना ही है । इसलिए जीवन को थोड़ा उलटते-पलटते रहना जरूरी होता है ।।

अपने करियर में कुछ नए क्षेत्रों में हाथ आजमाना चाहिए । साधारण बदलावों के जरिए आप नई ऊर्जा पा सकते हैं ।।

जब आप छोटे या बड़े बदलाव करेंगे तो वे आपको नई चीजें सीखने का मौका देंगे ।।


यह स्वीकार करना कि अब आपने पिछले वर्षों में कुछ नहीं बदला आपको आगे बढ़ने में मदद अवश्य करेगा ।।

।। नारायण सभी का कल्याण करें ।।
 
 
जयतु संस्कृतम् जयतु भारतम् ।।
 
जय जय श्री राधे ।।
जय श्रीमन्नारायण ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here