यंत्रों का प्रयोग एक वैदिक रीति!!

0
97
Yantra Prayog Vidhi
Yantra Prayog Vidhi

आवश्यकता के अनुसार यंत्रों का प्रयोग एक वैदिक रीति!! Yantra Prayog Vidhi.

जय श्रीमन्नारायण,

मित्रों, जैसा की मैं पहले भी बता चूका हूँ, की कुछ नम्बर्स ऐसे होते हैं, जिनको सही जगह पर बिठाकर सही रूप देने पर, किसी विशेष उद्देश्य की पूर्ति हो सकती है! हमारे देश में कुछ अनुभवी व्यक्ति हुए, जिन्होंने इस प्रकार की अपनी अनुभूतियाँ हमें हमारे कल्याणार्थ प्रदान किया!!
 
अगर आप पुछेंगें की उस अनुभवी व्यक्ति का नाम क्या था, तो शायद ये, बताना मुश्किल होगा ! लेकिन इन अनुभूतियों को आज भी बहुत लोग हैं, जिन्होंने प्रयोग में लिया है, और सत्य प्रमाणित किया है! लेकिन केवल भगवान अथवा किसी यंत्र के भरोसे बैठ जाना, और ये सोंच लेना की हमने तो यंत्र पहन लिया अब मेरा तो काम हो ही जायेगा, मुर्खता होगी! क्योंकि – उद्योगिनं हि पुरुष सिंहमुपैती लक्ष्मी – उद्योगी अर्थात परिश्रमी व्यक्ति को हि लक्ष्मी भी वरण करती है, कायरों को वो भी नकार देती है!!
 
यंत्र प्रभावी होते हैं, लेकिन परिश्रमी पुरुष को हि ये भी सहायता करते हैं, अत: हमें मेहनत जी जान से करना है, और इन विद्याओं का भी सहारा लेना है, तभी हमें पूर्ण सफलता मिलेगी! इन विद्याओं को आध्यात्मिक व्यक्तियों द्वारा दबाया जाता है, क्योंकि लोग कभी-कभी इन विद्याओं का दुरुपयोग करने लगते हैं!!
 
लेकिन आप कभी-भी इन विद्याओं का सही समय एवं सही जगह पर नेक नियत से प्रयोग करेंगें, तो सफलता निश्चित ही आपके कदम चूमेगी!!
 
वैसे ये यंत्र सफलता प्राप्ति यंत्र है, अगर आपको किसी सेवा क्षेत्र के कार्य में, बार-बार असफलता मिलती है, तो आप इस यंत्र का निर्माण काली स्याही से, भोजपत्र पर, शनिवार के दिन!! ॐ क्लीं महाकाल्यै नम: मम कार्यं सिद्धं कुरु कुरु हूँ फट !! इस मन्त्र का जप करते हुए, एकांत स्थान में बैठकर निर्मित करें!!
 
यंत्र तैयार होने के बाद, इसकी पूजा षोडशोपचार से करें, और उपरोक्त मन्त्र का १००८ बार जप करें! फिर इस यंत्र को, ताबीज में भर कर, पुरुष अपने दाहिनी भुजा पर, एवं स्त्री अपनी बायीं भुजा पर, काले रंग के धागे में बांधे! और फिर किसी भी तरह की परीक्षा अथवा प्रतियोगिता में निश्चिन्त होकर बैठे! सफलता निश्चित रूप से उसकी कदम चूमेगी, इस यंत्र के प्रभाव से!!
 
इन यंत्रों का कोई पूर्ण प्रमाण तो नहीं मिलता, लेकिन यह गुरु-शिष्य की श्रवण परंपरा से, आदिकाल से चली आ रही है! तथा नियम पूर्वक सच्ची भावना से धारण करने पर, कारगर भी होती है!!
आप मेरे साथ जुड़ने के लिए, मेरी वेबसाईट पर आयें – Sevashra Sansthan 
मेरे पेज पर भी आप मेरे साथ जुड़ सकते हैं, तथा इस प्रकार की या किसी भी तरह की अन्य जानकारी ले सकते हैं ! इसलिए मेरे पेज पर आयें – Swami Ji Maharaj
और अधिक जानकारी के लिए, मेरा ब्लॉग पढ़ें – Swami Dhananjay Maharaj
 
!! नमों नारायणाय !!
Previous articleदेवदर्शन एवं प्रणाम करने की सही विधि।।
Next articleसबकी एक दिन यही गति होगी।।
भागवत प्रवक्ता- स्वामी धनञ्जय जी महाराज "श्रीवैष्णव" परम्परा को परम्परागत और निःस्वार्थ भाव से निरन्तर विस्तारित करने में लगे हैं। श्रीवेंकटेश स्वामी मन्दिर, दादरा एवं नगर हवेली (यूनियन टेरेटरी) सिलवासा में स्थायी रूप से रहते हैं। वैष्णव धर्म के विस्तारार्थ "स्वामी धनञ्जय प्रपन्न रामानुज वैष्णव दास" के श्रीमुख से श्रीमद्भागवत जी की कथा का श्रवण करने हेतु संपर्क कर सकते हैं।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here