LATEST ARTICLES

उषाकाल में जागना स्वास्थ्यवर्द्धक-सामवेद।।

उषाकाल में जागना स्वास्थ्यवर्द्धक-सामवेद।। Pratah Jagne Ka Labh-Samveda. मित्रों, सामवेद का स्पष्ट संदेश है, कि उषाकाल में जागना स्वास्थ्यवर्द्धक होता है। सामवेद के अनुसार "उस्त्रा...

ब्रह्मादी देवो द्वारा स्तुति-रामचरितमानस।।

ब्रह्मादी देवो द्वारा स्तुति।। - रामचरितमानस।। Bhagwan Ki Stuti Devon Dwara. शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं, विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्णम् शुभाङ्गम्। लक्ष्मीकान्तम् कमलनयनं योगिभिध्यार्नगम्यम्, वंदे विष्णुम् भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम्।। जय जय सुरनायक...

कलियुगी ज्ञानवीरों से बचने का उपाय संकीर्तन।।

कलियुगी ज्ञानवीरों से बचने का उपाय संकीर्तन।। Kaliyugi Guanveero Ka Samadhan. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, जिस प्रकार वर्षाऋतु मेँ संध्या समय वृक्षोँ की चोटी पर इधर-उधर अनेक...

मुक्ति अर्थात आत्मकल्याण की अवस्था।।

मुक्ति अर्थात आत्मकल्याण की अवस्था।। Mukti Ka Samay. कौमार आचरेत्प्राज्ञो धर्मान् भागवतानिह। दुर्लभं मानुषं जन्म तदप्यध्रुवमर्थदम्।। मित्रों, इस संसार मेँ मानव जन्म अति दुर्लभ है। इसके सहारे...

कालीयनाग के दमन का रहस्य।।

कालीयनाग के दमन का रहस्य।। Kaliya Daman Ka Rahasy. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, कालिया नाग का फन तो मर्यादित था, किन्तु हमारे तो हजारोँ है। हमारे संकल्प-विकल्प...

इन्सान की अन्तिम इच्छा।।

इन्सान की अन्तिम इच्छा।। Insan Ki Antim Ichchha. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, दक्षिण में विजयनगर राज्य के बड़े ही प्रतापी राजा श्रीकृष्णदेवराय राज करते थे। उनका भरा-पूरा...

पापमोचिनी एकादशी व्रत कथा एवं विधि।।

पापमोचिनी एकादशी व्रत कथा एवं विधि।। Papmochani Ekadashi Vrat Katha And Vidhi. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को "पापमोचनी एकादशी" कही...

सर्वार्थसाधनाभिधं गङ्गा कवचम्।।

सर्वार्थसाधनाभिधं गङ्गा कवचम्।। Ganga Kavacham. इस सर्वार्थ= अर्थात = हर प्रकार के अर्थ की सिद्धि, साधना भिधं अर्थात हर प्रकार के साधनाओं को सिद्ध करनेवाली...

अथ श्रीबदरीनाथ अष्टकम्।।

अथ श्रीबदरीनाथ अष्टकम्।। Shri Badari Nath Ashtakam. ॥ श्रीबदरीनाथाष्टकम् ॥ भू-वैकुण्ठ-कृतं वासं देवदेवं जगत्पतिम्। चतुर्वर्ग-प्रदातारं श्रीबदरीशं नमाम्यहम्॥१॥ तापत्रय-हरं साक्षात् शान्ति-पुष्टि-बल-प्रदम्। परमानन्द-दातारं श्रीबदरीशं नमाम्यहम्॥२॥ सद्यः पापक्षयकरं सद्यः कैवल्य-दायकम्। लोकत्रय-विधातारं श्रीबदरीशं नमाम्यहम्॥३॥ भक्त-वाञ्छा-कल्पतरुं करुणारस-विग्रहम्। भवाब्धि-पार-कर्तारं...

आमलकी एकादशी व्रत कथा एवं विधि।।

आमलकी एकादशी व्रत कथा एवं विधि।। Amalaki Ekadashi Vrat Katha in Hindi. अट्ठासी हजार ऋषियों को सम्बोधित करते हुए सूतजी ने कहा - "हे विप्रो!...

Most Popular

मत्स्य अवतार का रहस्य।।

मत्स्य अवतार का रहस्य।। Matsya Avatar Ka Rahasya. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, एक बार एक बहुत बड़े दैत्य ने वेदों को चुरा लिया। उस दैत्य का नाम...

खुशियों तक पहुंचने वाले मार्ग।।

खुशियों तक पहुंचने वाले मार्ग।। Khushiyon Ke Marg. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, कभी-कभी बहुत छोटे-छोटे सूत्र हमें जिंदगी के बड़े सबक सिखा जाते हैं। यह आवश्यक नहीं...

प्यार के रिश्ते आखिर टूटते क्यों हैं।।

प्यार के रिश्ते आखिर टूटते क्यों हैं।। Pyar Ke Riste Tutate Kyon Hai. जय श्रीमन्नारायण, मित्रों, नारद भक्तिसूत्र में नारद जी ने प्रेम की व्याख्या अपने...

चरित्र ही मानव जीवन की स्थायी निधि है।।

चरित्र ही मानव जीवन की स्थायी निधि है।। Charitra Hi Manushy Ka Dhan Hai. जय श्रीमन्नारायण, Character is the permanent fund of human life. मित्रों, सद्भावना...
error: Content is protected !!